Showing posts with label Rajput Attitude. Show all posts
Showing posts with label Rajput Attitude. Show all posts

Wednesday, October 31, 2018

Rajput ko janzeero Me Kaid karne Ka Sapna Mat Dekh

#राजपुत_को_जंजीरो_में_कैद_करने_का_सपना_मत_देख
#क्युंकि_हम_वो_आदमखोर_शेर_हैं
#जिसका_भी_शिकार_करतें_हैं
#उसका_जिस्म_तो_क्या_रूह_भी_दम_तोड_देती_हैं

Tum Kya Humse Ji Huzur Karwaoge

#‎तुम_क्या_हमसे_जी_हुज़ुरी_करवाओगे‬
‪#‎ए_नादाँन_हम_तो_खुद_उस ‬(RÃJPÜT)_राजघराने_से_है, ‪जिनसे_बात_करते_वक्त_लोग‬
‪#‎आज_भी_हुकूम_कहना_नहीं_भूलते‬..!

Banna Par Nibhandh - Banna Status - Royal Banna Status For Whatsapp

'बन्ना' पर निबंध 
 
यह एक अजीब प्राणी है ,
यह भारत की भुमि पर पाये जाते है,
 
नवरात्रि के दिनो मे यह भारी संख्या मे दिखायी देते है,
 
दारु, बकरा मीट इनका पोषटीक आहार है,
 
इन्हें सिर्फ राज करना आता है
 
जन्म लेने के 18 साल तक कुँवर सा है और 18 साल के बाद बन्ना बनकर भयंकर रुप धारण कर लेते है
 
..रात 10 बजे के बाद इनके निकट नही जाना चाहिये क्योंकि यह हानिकारक सिद्ध हो सकता है
 
यह बडे होकर तलवार, बन्दुके, गोलियाँ चलाने का काम करते है
 
...""जब देखु बन्ना थोरी लाल पीली आँखिया"" यह गाना सुनकर यह कही भी नाचना शुरु कर देते है
 
सुर्य अस्त होते ही बन्ना मस्त हो जाते है
 
दुसरो की लडाई मे इन्हें पडने का बहुत शौक है
 
"जय राजपूताना" का नारा तो इनके मुँह पर ही रहता है

जीप लेकर रात को खरगोश का शिकार करने यह अक्सर जाया करते है
 
  कभी कभी खरगोश नही मिलता है तो तितर से भी कामचला लेते है
 
भारत के सभी ठेके इनकी वजह से चलते है
 
भारत सरकार इनको चाहती नही है फिर भी इन्होंने नाक मे दम कर रखा है
 
आजकल दुसरी जाति के लोग इनकी तरह बनने की कोशिश करते रहते है
 
यह महिलाओ को हमेशा सम्मान देते है उनकी रक्षा करने के लिए कही भी झगड़ा मोल ले लेते है
 
इनकी जीप मे तलवार, बन्दुके और Blendrs prided और Signature की बोतले हमेशा रहती है
काॅलेज मे क्लास मे इनकी सीट सबसे लास्ट वाली होती है
 
"हुकम" शब्द से यह अपने से बडो को सम्मान देते है

इन्हें आर्मी मे जाना पसंद है,
 
इनका प्यार 1st And Last होता है बाईसा से
 
यह कभी किसी के सामने झुकते नही है चाहे किसी भी समस्या आ जाये
 
और ये सुनते सबकी है लेकिन करते अपने मन की है
 
यह दोस्तो के लिए जान भी दे सकते है और दुश्मनो की जान तक ले सकते है..

Tuesday, October 30, 2018

Rajputo Ne Thapad Markar Chhor Diya Hoo - 3

खैर मनाओ  ...
सिर्फ़ थप्पड़ ही पड़े हैं 

वरना हमने ऐसा कोई इतिहास नहीं पढ़ा 
जिसमे राजपूतों ने सिर्फ़ थप्पड़ मारकर छोड़ दिया हो...

Saturday, October 27, 2018

Banduk Ka zamana Hai Isliye Talwar Myan Me Rakhkar Bethe hai

#बंदूक का ज़माना है इसलिये #तलवार म्यान में रखकर बेठे हैं.
वरना जितने तूने  #बाइक से #किलोमीटर नहीं काटे होंगे.
उतने तो हमारे #पूर्वजों ने #तलवार से सर  काट रखे हैं.!!

🚩#जय #श्री राम # 🚩 

Tuesday, October 23, 2018

Yeh Akad Aur Yeh Naam Hume हमारे पूर्वजों Ne विरासत me diya tha

यह अकड़ और 
यह नाम हमे हमारे पूर्वजों ने विरासत में दिया था.. 
लोग जीना नही छोड़ सकते 
और हम Darbar अपनी रॉयल्टी नही छोड़ सकते..

Monday, October 15, 2018

रण मेँ जीना, रण मेँ मरना Yahi Rajputana Ka Dharam hai

रण मेँ जीना, रण मेँ मरना यही राजपुताना का धर्म है तलवार हाथ मेँ बंदुक काख मेँ, सिर पे केसरीया साफा यहि राजपुताना की शान है !! 

Na Hum kesariya Rang Chhor sakte hai - Rajputana Hindi Status

ना हम केसरिया रंग छोड़ सकते हैं ना ही जीने का ढंग छोड़ सकते है क्षत्रिय है  हम न ‪#‎Attitude_ए _दबंग छोड़‬ सकते है न ही ‪#‎ जंग-ए -Rajputana छोड़‬ सकते है 

Sunday, July 8, 2018

Bandook aur Talwar jese khilone bazar me

बंदूक 🔫 ओर 🗡 तलवार जैसे खिलौने बजार मे बहोत बिकते हैं, पर उसे चलाने का जिगर 😎 दुनिया के किसी बाजार मे नहीं बिकता… राजपूत ⚔️ उसे लेकर ही पैदा होता है…😎

Tuesday, March 20, 2018

Ghar Ki bahri Diwaro Par नेरोलेक Paint Lagao ya na lagao - Bhagwa status

घर की बाहरी दीवारों पर नेरोलेक पेंट लगाओ या न लगाओ...
छत पर "भगवा ध्वज" जरुर लगाओ... 
घर की रौनक अपने आप बढ़ जाएगी..!!
🚩!! जय श्री राम !!🚩
 
BHAGWA STATUS

Thursday, March 15, 2018

MAHARANA PARTAP K Bare Me Kuch Rochak Jankari

🙏😎 महाराणा प्रताप के बारे में कुछ रोचक जानकारी:-
😎1... महाराणा प्रताप एक ही झटके में घोड़े समेत दुश्मन सैनिक को काट डालते थे।
 
😎2.... जब इब्राहिम लिंकन भारत दौरे पर आ रहे थे ।  तब उन्होने अपनी माँ से पूछा कि- हिंदुस्तान से आपके लिए क्या लेकर आए ? तब माँ का जवाब मिला- ”उस महान देश की वीर भूमि हल्दी घाटी से एक मुट्ठी धूल लेकर आना,  जहाँ का राजा अपनी प्रजा के प्रति इतना वफ़ादार था कि उसने आधे हिंदुस्तान के बदले अपनी मातृभूमि को चुना ।” लेकिन बदकिस्मती से उनका वो दौरा रद्द हो गया था | “बुक ऑफ़ प्रेसिडेंट यु एस ए ‘ किताब में आप यह बात पढ़ सकते हैं |
 
😎3.... महाराणा प्रताप के भाले का वजन 80 किलोग्राम था और कवच का वजन भी 80 किलोग्राम ही था| कवच, भाला, ढाल, और हाथ में तलवार का वजन मिलाएं तो कुल वजन 207 किलो था।
 
😎4.... आज भी महाराणा प्रताप की तलवार कवच आदि सामान उदयपुर राज घराने के संग्रहालय में सुरक्षित हैं |
 
😎5.... अकबर ने कहा था कि अगर राणा प्रताप मेरे सामने झुकते है, तो आधा हिंदुस्तान के वारिस वो होंगे,  पर बादशाहत अकबर की ही रहेगी|
  लेकिन महाराणा प्रताप ने किसी की भी अधीनता स्वीकार करने से मना कर दिया |
 
😎6.... हल्दी घाटी की लड़ाई में मेवाड़ से 20000 सैनिक थे और अकबर की ओर से 85000 सैनिक युद्ध में सम्मिलित हुए |
 
😎7.... महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक का मंदिर भी बना हुआ है,  जो आज भी हल्दी घाटी में सुरक्षित है |
 
😎8.... महाराणा प्रताप ने जब महलों का त्याग किया तब उनके साथ लुहार जाति के हजारो लोगों ने भी घर छोड़ा और दिन रात राणा कि फौज के लिए तलवारें बनाईं | इसी समाज को आज गुजरात मध्यप्रदेश और राजस्थान में गाढ़िया लोहार कहा जाता है| मैं नमन करता हूँ ऐसे लोगो को |
 
😎9.... हल्दी घाटी के युद्ध के 300 साल बाद भी वहाँ जमीनों में तलवारें पाई गई। आखिरी बार तलवारों का जखीरा 1985 में हल्दी घाटी में मिला था |
 
😎10..... महाराणा प्रताप को शस्त्रास्त्र की शिक्षा "श्री जैमल मेड़तिया जी" ने दी थी,  जो 8000 राजपूत वीरों को लेकर 60000 मुसलमानों से लड़े थे। उस युद्ध में 48000 मारे गए थे । जिनमे 8000 राजपूत और 40000 मुग़ल थे |
 
😎11.... महाराणा के देहांत पर अकबर भी रो पड़ा था |
 
😎12.... मेवाड़ के आदिवासी भील समाज ने हल्दी घाटी में अकबर की फौज को अपने तीरो से रौंद डाला था । वो महाराणा प्रताप को अपना बेटा मानते थे और राणा बिना भेदभाव के उन के साथ रहते थे । आज भी मेवाड़ के राजचिन्ह पर एक तरफ राजपूत हैं, तो दूसरी तरफ भील |
 
😎13..... महाराणा प्रताप का घोड़ा चेतक महाराणा को 26 फीट का दरिया पार करने के बाद वीर गति को प्राप्त हुआ | उसकी एक टांग टूटने के बाद भी वह दरिया पार कर गया। जहाँ वो घायल हुआ वहां आज खोड़ी इमली नाम का पेड़ है, जहाँ पर चेतक की मृत्यु हुई वहाँ चेतक मंदिर है |
 
😎14..... राणा का घोड़ा चेतक भी बहुत ताकतवर था उसके मुँह के आगे दुश्मन के हाथियों को भ्रमित करने के लिए हाथी की सूंड लगाई जाती थी । यह हेतक और चेतक नाम के दो घोड़े थे|
 
😎15..... मरने से पहले महाराणा प्रताप ने अपना खोया हुआ 85 % मेवाड फिर से जीत लिया था । सोने चांदी और महलो को छोड़कर वो 20 साल मेवाड़ के जंगलो में घूमे ।
 
😎16.... महाराणा प्रताप का वजन 110 किलो और लम्बाई 7’5” थी, दो म्यान वाली तलवार और 80 किलो का भाला रखते थे हाथ में।
 
महाराणा प्रताप के हाथी की कहानी:
 
मित्रो, आप सब ने महाराणा प्रताप के घोड़े चेतक के बारे में तो सुना ही होगा, लेकिन उनका एक हाथी भी था। जिसका नाम था रामप्रसाद। उसके बारे में आपको कुछ बाते बताता हुँ।
रामप्रसाद हाथी का उल्लेख अल- बदायुनी, जो मुगलों की ओर से हल्दीघाटी के युद्ध में लड़ा था ने अपने एक ग्रन्थ में किया है।
वो लिखता है की- जब महाराणा प्रताप पर अकबर ने चढाई की थी,  तब उसने दो चीजो को ही बंदी बनाने की मांग की थी । एक तो खुद महाराणा और दूसरा उनका हाथी रामप्रसाद।
आगे अल बदायुनी लिखता है की-  वो हाथी इतना समझदार व ताकतवर था की उसने हल्दीघाटी के युद्ध में अकेले ही अकबर के 13 हाथियों को मार गिराया था ।
वो आगे लिखता है कि- उस हाथी को पकड़ने के लिए हमने 7 बड़े हाथियों का एक चक्रव्यूह बनाया और उन पर 14 महावतो को बिठाया,  तब कहीं जाकर उसे बंदी बना पाये।
अब सुनिए एक भारतीय जानवर की स्वामी भक्ति।
उस हाथी को अकबर के समक्ष पेश किया गया । जहा अकबर ने उसका नाम पीरप्रसाद रखा।
रामप्रसाद को मुगलों ने गन्ने और पानी दिया।
पर उस स्वामिभक्त हाथी ने 18 दिन तक मुगलों का न तो दाना खाया और न ही पानी पिया और वो शहीद हो गया।
तब अकबर ने कहा था कि- जिसके हाथी को मैं अपने सामने नहीं झुका पाया,  उस महाराणा प्रताप को क्या झुका पाउँगा.?
इसलिए मित्रो हमेशा अपने भारतीय होने पे गर्व करो।
 
पढ़कर सीना चौड़ा हुआ हो
तो शेयर कर देना।

Keh doo Un gadho se ki paiso se banduk milti hai

💵पैसों से🔫#बंदूके मिलती हैं  💪#हिम्मत_और_जिगर नहीं✊  जिस👎दिन #हम_से😠सामना होगा  सारी😓#गर्मी_निकल जाएगी 👊🏼🔪

Wednesday, March 7, 2018

Hindu New Year - Happy New Year

बेटा :- पापा ये नया साल २ बार क्यों आता है.??
पिता :- नहीं बेटा..
नया साल तो एक बार ही आता है ।
साल में 1 जनवरी को...
बेटा :- नही पापा..
एक भैया घर पर आकर
एक झंडा दे गए हैं
केसरिया🚩रंग का..
और बोले इसको नए साल के दिन सुबह अपने घर की छत पर लगाना...।
पिता :- ओह हो बेटा..
वो RSS संघ शाखा वाले होंगे..
वो ये
"हिन्दु वाला"
नया साल मनाते है...
बेटा आश्चर्य से पिता की ऒर देखकर जो कहता है
वो शायद हमारी आँखे खोल दे.??
"पापा इसका मतलब क्या हम हिन्दु नहीं है".??
क्या हम अपनी दिवाली, दशहरा, होली, राखी, तीज, गणगौर नहीं मनाते.??
तो फिर हम अपना नया साल सिर्फ अंग्रेजों वाला  ही क्यों मनाये.??
क्युँ नही हम पहले अपना "सनातन हिन्दु नव वर्ष" मनाये.??
पिता :- कुछ सोचकर..
बेटा तेरी बात तो एकदम सही है..
ठीक है
जा बेटा लगा दे
अपना केसरिया भगवा झंडा 🚩 घर के ऊपर और
तेरी माँ से कह दे की
हमारे हिन्दु नव वर्ष पर खीर पुड़ी भी बना लेवे..
भई हम हिन्दुओं का अपना तो यही नया साल है ;
कुछ मीठा भी तो होना ही चाहिये
विदेशी नववर्ष पे कैसा हर्ष,
आओ मनाये भारतीय नववर्ष🚩🇮🇳
हिन्दू नववर्ष ,
विक्रम संवत
२०७५ (2075 ) ,   

  18 मार्च 2018

🚩 जय जय श्री राम 🚩

ॐ चेत्र शुक्ल एकम, राजा विक्रम नव संवत 2075, आरोग्य धन्वतरि विद्या दिवस, बसन्त नवरात्र आरम्भ 18 मार्च , गुड़ी पड़वा . 🚩 , 🙏वन्दे मातरम🚩जय हिंद 🇮🇳💐

Monday, March 5, 2018

RAJPUT k Naam K Piche Singh Kyo Lagta hai - Rajput Sher

राजपूत के नाम के पीछे सिंह
क्यों लगता है?
.
इस युग में राजपूत को शेर इस लिए
कहा गया है
की वो "अघोषित विजेता" है
क्योकि शेर अपने
प्रहार करने
की क्षमता शक्ति के बल पर राज
करता है उसे
किसी के चुनाव की जरुरत
नहीं पड़ती,ठीक
राजपूत
भी वही है
जो अपनी लड़ने
की क्षमता सोर्य और साहस के दम पर
विजय प्राप्त
करता है, और पुरे विश्व में एक राजपूत
कोम
ही ऐसी है जिसके नाम के
पीछे सिंह लगता हैं ..
.....................................
♚ हम राजा हैं हमें शराफत से राज करने
दो.......
अगर हम महाराजा बनें तो,,.हर दुश्मन
का जीना हराम कर देगें ♚...!!!
......................
जब हम सिंहासन पर बैठते है तो,राजा कहलाते
है !
जब हम घोङे पर सवार होते तो,
योध्दा कहलाते है !
जब हम किसी की जान बचाते
है तो, श्रत्रिय
कहलाते है!
जब हम किसी को वचन देते है
तो "राजपुत"
कहलाते है !
......................
" मेरा कत्ल कर दो
कोई शिकवा ना होगा,
मुजे धोखा दे दो
कोई बदला न होगा,
पर अगर जो आँख उठी मेरे वतन ए
हिन्दुस्तान
पे,
तो फिर
तलवार उठेगी और फिर कोई समझौता न
होगा...!! "
.......................
हमारी शक्सियत का अंदाज़ा तुम
क्या लगाओगे गालिब..,
के हम तो कब्रीस्तान से
भी गुज़रते है तो मुर्दे
उठ
कर कहते है...
"जय माताजी जी बना"
................
सर पे हे केसरिया साफा '
मुख पे हे सोने सी आभा'
जब हाथ मे लेते हे' तलवार
दुनिया करती हे '
कोटि कोटि प्रणाम'
अपनी माँ के सच्चे पुत '
इसलिए कहते हमको क्षत्रिय राजपुत'
......................
जो मचछर से डर जाता है,
उसका खून भी लाल होता है।
जो शेर से लड जाता है,
उसका खून भी लाल होता है।।
लेिकन एक अजब खून का
जलवा तो गजब पुत का होता है!!
जो मौत को भी ललकारे वो खून
राजपुत का होता है !
................
जमाने ने राजपूतो के उसूल तो बदल दिए"
पर
"खून और दादागिरी आज
भी वो ही है.. ।।
.........................
झुंड मे रहने वालो आजमा कर
देखना कभी हमारी छाती पर
फौलाद
भी पिघलता है।
शेर सा जिगरा है "राजपूत"
हमेसा अकेला निकलता है।
गुलामी तो हम सिर्फ अपने माँ बाप
की करते
है .!!
दुनिया के लिये तो कल भी बादशाह थे और
आज
भी..!!
.......................
राजपूत उस बारिश का नाम नही जो बरसे और
थम जाये।
राजपूत वो सूरज नही है जो चमके और
डुब
जाये।
.....................
राजपूत नाम है उस साॅस का।
जो चले तो जिंदगी और थमे तो मौत बन
जाये।...........
........................
अभी तक हम इतने
भी मामूली नहीं हुए...."
कि.....
किसी के दिल में बसना चाहे और वो इनकार
कर
दे...."
.......................
जो मिटा सके हमारी शोहरत के पन्ने.......
वो दम किसी में कहाँ.
शूक्र है तलवारें म्यान के अन्दर है वरना.
जो टिक
सके हमारें सामने वो सर कहाँ !!!
...........
रानी नहीं तो क्या हूआ..
यह राजा आज
भी लाखों दिलों पर राज करता हैं.!!
.................
बंदुक और तलवार जैसै खिलेोने बाजार मे बहुत
बिकते है ।।
पर उसे चलाने का जिगर
दुिनया के किसी भी बाजार मे
नही बिकता ----->
"मदॅ" उसे लेकर पैदा होता हे.... ॥............
किसी ने पुछा
राजपूत
की जनसंख्या इतनी कम
क्यों है ???
राजपूत ने उतर देते हुए कहा - यह
प्रकृति का नियम
है यदि शेरों (राजपूत)
को बढा दिया जाए
तो दुसरी प्रजातियाँ खतरे मे पड़
जाएगी ।।
..................
कोशिश तो सब करते है, लेकिन सबको हासिल
ताज नही होता ।
शोहरत तो कोई भी कमा ले, पर
बन्ना वाला अंदाज नही होता ।
उस दिन भी कहा था
आज भी कह रहा हु...
...................
"उम्र छोटी है लेकिन
जज्बा दुनिया को मुट्ठी में
रखने का रखता हूँ ¶
मेरी दोस्ती का फायदा उठा लेना क्युंकी
मेरी दुश्मनी का नुकसान सह
नही पाओग.....
..............
हथियार तो सिर्फ शौक के लिए रखा करते है,
वरना किसी के मन में खौंफ पेदा करने के लिए
तो बस "नाम"
ही काफी हे.........
.................
लोग कहते है तुजे तेरी "
बन्ना गीरी"
एक दिन मरवायेंगी...
मैने प्यार से कहा- क्या करु ?
सबको " बन्ना गीरी
आती नही और
मेरी जाती नही !......
.................
..सिंह का मुखोटा लगाकर कोई शेर
नहीं बनता...
भाला उठाकर कोई राणा प्रताप
नहीं बनता...
रणभूमी में पता चलता हे योद्धाओ का...
मुछो की मरोड़ी लगाने से कोई
राजपूत
नहीं बनता...
.................
कुछ हुनर खून में होते हे सिखाये
नहीं जाते...
यु दंड बैठक लगाने से कलेजा राजपूत
का नहीं बनता..,,,,जय श्री राम
  🇮🇳THE LEGEND OF RAJPUT 🇮🇳

Jay Rajputana 🚩 Tewar MAin Rawani Andaz hai Tufani

🚩 *जय राजपूताना* 🚩
*तेवर*  मे रवानी.....
अंदाज है तूफानी......
और *सारी दुनिया है दिवानी*. ....
बस यही तो है........
*राजपूतो की कहानी*......
और तो बाकि सब
*महाराणा प्रताप* की मेहरबानी है.......!!!!!!
"जय राजपुताना"
*जय मेवाड़*
        🚩 *जय महाराणा प्रताप*🚩🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Rakhte Hai Muchho Ko Taw Dekar Yaari Nibhate Hai Jaan Dekar

रखते हैं मूछों को ताव देकर ,यारी निभाते हैं जान
देकर ,
ख़ौफ़ खाती है दुनिया हमसे , क्योंकि हम जीते हैं
शेरों की दहाड़ लेकर !! #जय राजपूताना
रहे हाथ ढाल तलवार और मज़बूती
तू धर दे माँ चामुंडा राजपूतों में मज़बूती
क्षत्रियो एक बनो नेक बनो !!#जय राजपूताना
शेर का मुखौटा लगाकर कोई शेर यहीं बनता ,
भाला उठाकर कोई राणा प्रताप नहीं बनता ,
रणभूमि में पता चलता है योद्धाओं का ,
मूछों की मरोड़ी लगाने से कोई #राजपूत नहीं
बनता !!
जब हम सिंहासन पर बैठते हैं तो,राजा कहलाते है ,
जब हम घोङे पर सवार होते तो,योध्दा कहलाते है,
जब हम किसी की जान बचाते है तो,श्रत्रिय
कहलाते है,
जब हम किसी को वचन देते है तो “राजपुत” कहलाते
है !!
जो तुम कहते हो वो नादानी है
हमसे नज़रें मिलाने की कोशिश न कर
हमारी अकड़ खानदानी है ! #राजपूत
कोशिश तो सब करते है ,लेकिन सबको हासिल ताज़
नहीं होता ,
शोहरत तो कोई भी कमा ले लेकिन राजपूतों
वाला अंदाज़ नहीं होता !
ना दौलत पे नाज़ करते है ,
ना शोहरत पे नाज़ करते है ,
किया है भगवान  ने  राजपूतों के घर पैदा,
इसलिए अपनी किस्मत पे नाज़ करते है !!
शीश कटे पर झुके नहीं
आगे बढ़े पर रुके नहीं
लड़े आंधी और तूफानों में
आत्म गौरव है राजपूतानो में !!

Pan Card

Popular Posts

Contact Form

Name

Email *

Message *