loading...

Sunday, July 17, 2016

Koyal apni bhasha bolti hai

कोयल अपनी भाषा बोलती है,
        इसलिये आज़ाद रहती हैं.
किंतु तोता दूसरे कि भाषा बोलता है,
        इसलिए पिंजरे में जीवन भर गुलाम रहता है.
अपनी भाषा,
        अपने विचार और
               "अपने आप" पर विश्वास करें!....
           🌷🌷सुप्रभात🌷🌷
                      🙏🏻जय श्री राम🙏🏻
loading...

0 comments:

Post a Comment

Aap Apna Status Comment Kar Sakte Hai...

SABHI USERS SE REQUEST HAI SITE KO FACEBOOK WHATSAPP PAR SHARE KARE...
loading...

Popular Posts

Contact Form

Name

Email *

Message *